Archives for December, 2017

Featured

राहु-केतु के बुरे असर को पलट दे लाल किताब के ये मारक-अचूक टोटके

1. खाना नंबर एक : यदि आपकी कुंडली के पहले भाव में राहु और सातवें भाव में केतु हो तो चांदी की ठोस गोली अपने पास रखें। 2. खाना नंबर दो…
Continue Reading
Featured

यहां राम ने ब्रह्महत्या का पाप धोया था…

हम आपको एक ऐसे सरोवर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसमें स्नान करने के बाद आपके सारे पाप समाप्त हो जाते हैं और पुनः साफ-सुथरे मन से आप आगे का…
Continue Reading
Featured

पांडवों को कैसे खुशी रखती थीं द्रौपदी? सत्यभामा को बताई थी ये बातें

वनवास के दौरान जब पांडव काम्यक वन में रह रहे थे। तब एक दिन भगवान श्रीकृष्ण सत्यभामा को लेकर उनसे मिलने पहुंचे। जब पांडव और श्रीकृष्ण भविष्य की योजना बना…
Continue Reading

प्रेरणादायक प्रसंग रामकृष्ण परम हँस

हिन्दू मान्यता के अनुसार, ईश्वर को त्रिगुणा स्वामी कहा जाता हैं इसी तरह एक समान्य मनुष्य में भी तीन गुणों का वास होता हैं और इन्ही गुणों के कारण एक…
Continue Reading

भीष्म पितामह ने मृत्यु के ठीक पहले स्त्रियों के बारे में बताई थीं ये गुप्त बातें

नातन काल की बात करें या आज की, जब-जब किसी ने स्त्री का अपमान किया है, उसका निश्चित ही विनाश हुआ है। जब द्रौपदी का चीरहरण हुआ तो सभा में…
Continue Reading
Featured

जब हनुमान प्रकट हुए तुलसीदास के सामने, जानिए आगे क्या हुआ।

सिय राम मय सब जग जानी; करहु प्रणाम जोरी जुग पानी! अर्थात 'सब में राम हैं और हमें उनको हाथ जोड़कर प्रणाम करना चाहिए।' यह लिखने के उपरांत तुलसीदासजी जब…
Continue Reading

महामृत्युंजय मंत्र – Mahamrityunjaya Mantra

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात्   ॐ aum = is a sacred/mystical syllable in Sanatan Dharma or Hindu religions, Hinduism, Jainism, Buddhism & Sikhism. त्र्यम्बकं tryambakam = the three-eyed one (accusative…
Continue Reading

श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र

विनियोगः- ॐ अस्य श्री हनुमान् वडवानल-स्तोत्र-मन्त्रस्य श्रीरामचन्द्र ऋषिः, श्रीहनुमान् वडवानल देवता, ह्रां बीजम्, ह्रीं शक्तिं, सौं कीलकं, मम समस्त विघ्न-दोष-निवारणार्थे, सर्व-शत्रुक्षयार्थे सकल-राज-कुल-संमोहनार्थे, मम समस्त-रोग-प्रशमनार्थम् आयुरारोग्यैश्वर्याऽभिवृद्धयर्थं समस्त-पाप-क्षयार्थं श्रीसीतारामचन्द्र-प्रीत्यर्थं च हनुमद् वडवानल-स्तोत्र…
Continue Reading
12
Skip to toolbar