Bramha Sarovar of Kurukshetra

It is believed that Lord Brahma himself performed a huge Yadnya in Kurukshetra after he created the universe. Some believe the universe was created after the Yadnya but it would not make sense as how would earth exist if the universe was not yet created ?

But this Yadnya was performed near a large lake which was named Bramha Sarovar. This lake became well known through mahabharata. As we know, Dhuryodhana after losing the war hide himself in a lake. This is the same lake. Bhima later challenged Dhuryodhana to come out of the lake and fight him only to get killed at the hands of mighty Bhima.

Bramha sarovar has an important place in Hindu mythology and thousands of people take bath in this lake especially on Gita Jayanti and Solar eclipse day.

ब्रह्मसरोवर भारत के हरियाणा राज्य के थानेसर में स्थित एक सरोवर है जो हिन्दुओं द्वारा अत्यन्त पवित्र माना जाता है। सूर्यग्रहण के अवसर पर यहां विशाल मेले का आयोजन किया जाता है। इस अवसर पर लाखों लोग ब्रह्मसरोवर में स्नान करते हैं। कई एकड़ में फैला हुआ यह तीर्थ वर्तमान में बहुत सुन्दर एवं सुसज्जित बना दिया गया है। कुरूक्षेत्र विकास बोर्ड के द्वारा इसे बहुत दर्शनीय रूप प्रदान किया गया है तथा रात्रि में प्रकाश की भी व्यवस्था की गयी है।

कुरूक्षेत्र के जिन स्थानों की प्रसिद्धि संपूर्ण विश्व में फैली हई है उनमें ब्रह्मसरोवर सबसे प्रमुख है। इस तीर्थ के विषय में विभिन्न प्रकार की किंवदंतियां प्रसिद्ध हैं। इस तीर्थ के विषय में महाभारत तथा वामन पुराण में भी उल्लेख मिलता है। जिसमें इस तीर्थ को परमपिता ब्रह्मा जी से जोड़ा गया है। ब्रह्म सरोवर के उत्तरी तट पर कई धर्मशाला बनी हुई है जिनमें गुर्जर धर्मशाला तथा जाट धर्मशाला मुख्य हैं ।इन दोनों धर्मशाला में सैलानियों को तीन समय का भोजन मुफ्त दिया जाता है।

मिथकों की कहानियों के अनुसार, ब्रह्मा ने एक विशाल यज्ञ के बाद कुरुक्षेत्र की भूमि से ब्रह्माण्ड का निर्माण किया। यहां का ब्रह्म सरोवर सभ्यता का पालना माना जाता है। सरोवर का उल्लेख ग्यारहवीं शताब्दी के अल बरुनी के संस्मरणों में भी मिलता है, जिसे ‘किताब-उल-हिंद’ कहा जाता है। सरोवर का उल्लेख महाभारत में भी है कि युद्ध के समापन के दिन दुर्योधन ने खुद को पानी के नीचे छिपाने के लिए इसका इस्तेमाल किया था।

भगवान शिव को समर्पित एक पवित्र मंदिर सरोवर के भीतर है, जो एक छोटे से पुल से सुलभ है। शास्त्रों के अनुसार, इस सरोवर में स्नान करने से [अश्वमेध यज्ञ]’ करने की पवित्रता बढ़ती है। पूल में प्रत्येक वर्ष नवंबर के अंतिम सप्ताह और दिसंबर की शुरुआत में गीता जयंती समारोह के दौरान एक सांस लेने वाला दृश्य दिखाई देता है, जब पानी में तैरते दीपों का गहरा दान ’समारोह होता है और [आरती] होती है। यह वह समय भी होता है जब दूर-दूर से प्रवासी पक्षी सरोवर में आते हैं। सरोवर के पास [बिड़ला गीता] मंदिर और बाबा नाथ की हवेली का आकर्षण हैं।

कहा जाता है कि यहाँ स्थित विशाल तालाब का निर्माण महाकाव्य महाभारत में वर्णित कौरवों और पांडवों के पूर्वज राजा कुरु ने करवाया था। कुरुक्षेत्र नाम ‘कुरु के क्षेत्र’ का प्रतीक है।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *