शुक्र मन्त्र

ॐ ह्रीं श्रीं शुक्राय नमः ||
(5 माला का जाप आवश्यक)
रत्न हीरा. भोजन – नमक रहित चावल, दूध दही इत्यादि |