केतु मन्त्र

ॐ ह्रीं केतव नमः ||
(3 माला का जाप करें)
रत्न – लहसुनिया. भोजन – नमक रहित गेहूँ व तिल से बना हुआ |