Chakshushmati Vidya Mantra Recitation : चाक्षुषोपनिषद मंत्र

चक्षुषोपनिषद नामक यह प्रार्थना आंखों के रोगों से मुक्ति और शानदार दृष्टि प्राप्त करने के लिए अचूक मंत्र है।
इससे दृष्टि बढ़ जाती है और आँखें तेज हो जाती हैं।
यह प्रार्थना भगवान सूर्य को संबोधित है और इसमें यह प्रार्थना की जाती है कि मुझे पिछले जीवन से  अपने  सारे बुरे कर्म से छुटकारा दिलाकर, मेरी आँखों में प्रकाश स्थापित करें और मेरे सभी नेत्र रोगों को ठीक कर दें।
ॐ तस्याश्चाक्षुषीविद्याया अहिर्बन्ध्यु ऋषि:, गायत्री छन्द:,
सूर्यो देवता, चक्षूरोगनिवृत्तये जपे विनियोग:।
ॐ   चक्षुष     चक्षुष      चक्षुष   तेजः स्थिरो भव, माम (या रोगी का नाम) पाहि पाहि,
त्वरितं    चक्शुरोगान    शमय   शमय
मम जातरूपं तेजो दर्शये दर्शये,
यथा अहम अन्धो नस्याम तथा कल्पय कल्पय
कल्याणं   कुरु कुरु,
यानी  मम   पूर्व   जन्मोपार्जितानी
चक्षुष प्रतिरोधक दुष्क्रुतानी
सर्वानी   निर्मूलय  निर्मूलय
ॐ    नमः चक्षुः   तेजोदात्रे    दिव्यायभास्कराय
ॐ  नमः    करूनाकराय अमृताय
ॐ  नमः सूर्याय ॐ नमो   भगवते   श्री  सूर्याय  अक्षितेजसे  नमः
खेचराय       नमः ,  महते     नमः      रजसे नमः,     तमसे  नमः,
असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय,
मृत्योरमा अमृतंगमय,
उष्णो  भगवान्    शुचिरूपः    हंसो   भगवान्  शुचि   प्रतिरूपः
यइमाम् चाक्षुशमतिम विद्याम
ब्रह्मणों   नित्यम अधीयते
न तस्य अक्षि रोगो भवती
न तस्य कूले अंधोर भवती
अष्टो ब्राह्मणाम  ग्राहित्वा
विद्या सिद्धिर भवती
विश्वरूपं      घ्रणितम जातवेदसम हिरणमयम पुरुषंज्योतीरूपं तपन्तं
सहस्त्ररश्मिः     शतधा     वर्तमानः   पुरः    प्रजानाम   उदयत्येष  सूर्यः
ॐ नमो भगवते आदित्याय अक्षितेजसे-अहो वाहिनी अहो वाहिनी स्वाहाः
Skip to toolbar