शान्ति मंत्र  Shanti Path

ॐ द्यौ: शान्तिरन्तरिक्ष, शांति पृथ्वी:
शान्तिराप: शान्तिरोषधय: शांति : ।
वनस्पत्य: शांतिविश्वे: देवा: शांति,
सर्वँ शान्ति:, शान्तिरेव शान्ति:, सामा शान्तिरेधि॥
ॐ शान्ति:! शान्ति:! शान्ति:॥
अर्थ : 
 
शान्ति: कीजिये, भगवन त्रिभुवन में,त्रिलोक में, जल में, थल में और गगन में,
अन्तरिक्ष में, अग्नि पवन में, औषधि, वनस्पति, वन, उपवन में,
सकल विश्व में अवचेतन में !
शान्ति राष्ट्र-निर्माण सृजन, नगर, ग्राम और भवन में
जीवमात्र के तन, मन और जगत के  कण कण में,
ॐ शान्ति: ! शान्ति: ! शान्ति:॥
Skip to toolbar