सिय राम मय सब जग जानी; करहु प्रणाम जोरी जुग पानी! अर्थात 'सब में राम हैं और हमें उनको हाथ जोड़कर प्रणाम करना चाहिए।' यह लिखने के उपरांत तुलसीदासजी जब…
Continue Reading